रास्ते में तन्हा चल रहे थे…

सोचा किसीका साथ मिले तो बात बने…

तभी दूर एक परछाई नज़र आई…

लगा खुदा ने दुआ क़ुबूल करी…

थोडा पास जाकर देखा तो पता चला की खुदा ने भी क्या हसीन मजाक किया है…

जिसे हमसफ़र समझा , वो तो हकीकत में ना निकला…

जिसे हम हमारी तकदीर समझ रहे थे , वो हमारा भ्रम निकला…

Deepali Jain